ऑनलाईन बैंकिंग की दुनिया में सुरक्षा

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

सुरक्षाआजकल कैशलेस की दुनिया में सबसे ज्यादा चोरी होने की संभावना ऐसी जगहों और लोगों से होती हैं जिन्हें न आप जानते हैं और कुछ होने पर न ही उनको पहचान पायेंगे। जैसे पहले हम नगद याने कि कैश घर पर ऱखते थे, तो पूरी जिम्मेदारी हमारी थी कि घर में सुरक्षा को चाक चौबंद इंतजाम होने चाहिये, सबसे पहले घर के मुख्य दरवाजे पर अच्छा ताला होना चाहिये, खिड़कियाँ मजबूत हों और फिर हम नगद जहाँ भी रख रहे हैं वह भी सुरक्षित हो, जिससे कोई भी आसानी से आपकी गाढ़ी कमाई का पैसा उड़ा न ले जाये।

ऑनलाईन बैंकिंग की दुनिया में सुरक्षा मामले थोड़े से अलग है, हमें यहाँ ज्यादा चौकन्ना और सजग रहना होगा। जब कैश चुराने कोई चोर घर में घुसेगा तो हो सकता है कि आपके किसी सुरक्षा उपकरणों की वजह से पकड़ा जाये या फिर चोरी करने में सफल न हो पाये। बस वैसे ही आपको सुरक्षित इंतजाम अपने ऑनलाईन खाते / क्रेडिट कार्ड / डेबिट कार्ड / एटीएम / वैलेट के लिये भी करने हैं। जितनी ज्यादा सुरक्षा हो सके उतनी सुरक्षा रखनी है।

हम यहाँ सुरक्षा के लिये कुछ तरीकों पर बात करेंगे, जिससे आप ऑनलाईन बैंकिंग की दुनिया में सुरक्षित हों और चोरी का जोखिम कम हो सके –

Two factor authentication अपने खाते में Two factor authentication लागू करें –

सबसे पहले तो आप उस बैंक में खाता खुलवायें जहाँ ऑनलाईन बैंकिंग के लिये Two factor authentication उपलब्ध है। आजकल कुछ बैंकें एक छोटी device देती हैं, जिसे RSA Secure token कहा जाता है, और इस device में हर 30 सेकंड के बाद नया पिन आ जाता है, और जब तक आप अपने पासवर्ड के साथ इस पिन को नहीं देंगे तब तक ऑनलाईन बैंकिंग में लॉगिन ही नहीं कर पायेंगे और न ही संचालन कर पायेंगे।

मजबूत पासवर्डअपना पासवर्ड बेहद मजबूत बनायें Create Strong Password –

जब भी आप अपना पासवर्ड बनाते हैं तो ध्यान रखें कि उसे इतना मजबूत होना चाहिये कि कोई उस बारे में सोच न पाये और तोड़ न पाये। पासवर्ड बनाते समय ध्यान रखिये कि पासवर्ड लंबा हो अपर, लोअर, नंबर और विशेष अक्षरों का सम्मिश्रण हो।

कभी भी सामान्य या साधारण शब्दों या वाक्यों को पासवर्ड न बनायें। कभी भी अपने नाम, सरनेम और जन्मदिनाँक को पासवर्ड में उपयोग न करें, ये जानकारी लगभग आपको जानने वाले सभी के पास होती है और जो भी हैक करेगा उसके पास भी ये बुनियादी जानकारी उपलब्ध हो जायेगी। अपने पासवर्ड को लगभग हर महीने बदलते रहें।

जब आप ऑनलाईन बैंकिंग को सैटअप करते हैं तो बैंक आपको कुछ प्रश्नों के उत्तर देने को कहते हैं, पर ध्यान रखें कि जब उत्तर दें तो सही याने कि रियल उत्तर देने की जरूरत नहीं हैं। तो अगर पूछा जाता है कि आपका जन्मस्थान कहाँ है, तो जरूरी नहीं कि सही जबाब दें अगर सही जबाब उज्जैन है तो आप लखनऊ भी लिख सकते हैं। तो हमेशा अपने सुरक्षा प्रश्नों के उत्तर इस प्रकार से दें कि आपके बारे में आपका जानकार व्यक्ति भी उत्तर न जान पाये। अब आप सोच रहे होंगे कि इन प्रश्नों के उत्तर या इतने सारे पासवर्ड कैसे याद रखें तो पासवर्ड मैनेजर का उपयोग करें। पासवर्ड कहीं भी लिखकर न रखें, वो लिखा हुआ किसी के भी हाथ लग सकता है।

अपने कम्प्यूटर और मोबाईल को up-to-date रखें –

UptoDateआजकल कम्प्यूटर और मोबाईल में सिक्योरिटी सॉफ्टवेयर बेहद जरूरी हैं भले ही ये आप किसी भी कार्य के लिये उपयोग कर रहे हों। कम से कम कम्प्यूटर पर ध्यान रखें कि फायरवॉल active हो और एन्टीवायरस सॉफ्टवेयर चल रहा हो। इससे आप टोर्जन्स, कीलॉगर्स और अन्य तरह के मैलवेयर्स जो कि आपकी वित्तीय जानकरियाँ चुराने के लिये बनाये जाते हैं, उनसे सुरक्षित रहेंगे।

हमेशा अपने कम्प्यूटर और मोबाईल का ऑपरेटिंग सिस्टम up-to-date रखें जिससे कि सुरक्षा में चूक की कोई गुँजाईश न हो।

ईमेल से कभी भी बैंक की वेबसाईट या भुगतान करने न जायें –

ऑनलाईन भुगतानकोई भी वित्तीय संस्थान या बैंक कभी भी आपको ईमेल भेजकर आपसे लॉगिन के बारे में किसी भी प्रकार की जानकारी नहीं माँगेंगी।

अगर आपको कोई ईमेल मिला है जो कि ऐसा लग रहा है कि बैंक ने भेजा है तो आप ईमेल को संदिग्ध मानिये और उस पर कभी भी click करके किसी भी पेज को visit नहीं करिये, यह आपकी जानकारी पाने के लिये एक फिशिंग का प्रयास हो सकता है, जिससे कि आप अपने लॉगिन की सारी जानकारी उन्हें दे दें। एक बार यह जानकारी अगर गलती से भी उनको पास चली गई तो फिर वे आपके ऑनलाईन खाते में हमेशा ही सेंध लगाने की कोशिश करते रहेंगे।

सुरक्षा के लिहाज से हमेशा ही अपने बैंक का वेबसाईट एड्रेस खुद ही ब्राऊजर में टाइप करें।

किसी भी प्रकार के अनापेक्षित फोन कॉल जो कि ऐसा लगे कि बैंक से है, ऐसे कॉलों से सावधान रहना चाहिये। हो सकता है कि जब बैंक को आप फोन करते हैं तो वे कुछ प्रश्न जो कि आपके खाते की सुरक्षा से जुड़े होते हैं वे पूछें पर वे कभी भी आपके पासवर्ड या पिन के बारे में नहीं पूछेंगे। अगर आपको लगता है कि यह फोन बैंक से नहीं है तो आप तुरंत ही फोन काट दें और वापिस से बैंक को फोन लगाकर बात करें कि क्या वाकई आपको बैंक से फोन किया गया था उससे आपको पता चल जायेगा कि कोई आपके खाते के बारे में जानकारी लेने की कोशिश कर रहा था या वाकई बैंक से ही फोन था।

अपने ऑनलाईन बैंकिंग को सुरक्षित जगह से ही लॉगिन करें –

हमेशा ध्यान रखें Best Practice कि जब भी आप ऑनलाईन बैंकिंग कर रहे हैं तो जिस भीताले का आईकन नेटवर्क या कम्प्यूटर से आप बैंकिंग करें वो भरोसेमंद (Trusted) हो, जिस पर आपको विश्वास हो।

हमेशा ध्यान रखें जब भी आप बैंकिंग वेबसाईट पर जायेंगे तो आपको ब्राऊजर पर एड्रेस बार में एक छोटा सा ताले का आईकन दिखाई देगा, और बैंक के एड्रेस को आप ध्यान रखें कि https से ही खोलें, https मतलब कि Secure सुरक्षित। अगर दोनों ही चीजें आपको दिखाई दे रही हैं तो आप सुनिश्चित हो सकते हैं कि आप सुरक्षित तरीके से ऑनलाईन बैंकिंग से जुड़े हैं।

हमेशा लॉगआऊट करें Always Logout –

always logoutBest Practice यह है कि जब भी ऑनलाईन बैंकिंग से आपको काम खत्म हो जाये तो आप लॉगआऊट करें, कई लोग आलस में लॉगआऊट नहीं करते हैं, बैंक भी 5 या 10 मिनिट के बाद आपका कनेक्शन टाईम आऊट करते हैं। लॉगआऊट करने से कोई भी आपके चल रहे बैंकिंग सैशन को हाईजैक नहीं कर पायेगा या क्रॉस साईट स्क्रिप्टिंग से एक्सेस नहीं कर पायेगा।

हमेशा ब्राऊजर का प्राईवेट सैशन खोलकर बैंकिंग करें, जिससे कैश और कूकिज भी सेव नहीं होंगी।

खाते की गतिविधियों को पाने के लिये रजिस्टर करें –

आजकल लगभग सभी बैंकें आपको ऑफर करती है कि आप ईमेल या एसएमएस के जरिये अपने खाते में हो रही हर गतिविधि की जानकारी पा सकते हैं। इस सेवा का फायदा जरूर उठायें, अगर किसी ने कुछ गड़बड़ करने की कोशिश भी की तो आपको तुरंत पता चल जायेगा।

अपने खाते को निश्चित समय अंतराल में देखते रहें –

लेनदेनहमेशा ही हर महीने अपने खाते के मासिक पासबुक के हर लेनदेन को देखें और कोई भी गड़बड़ दिखाई दे तो तुरंत ही अपने बैंक को शिकायत करें। पर ऑनलाईन बैंकिंग का फायदा उठाते हुए आपको हर महीने का इंतजार भी करने की जरूरत नहीं है, कभी भी किसी भी वक्त आप अपने बैंक एकाऊँट के बारे में जानकारी देख सकते हैं। आप यह भी देख सकते हैं कि आखिरी बार कब और किस आई.पी. से लॉगिन किया था।

और भी बहुत सी जानकारियाँ होंगी जिससे आप अपने ऑनलाईन बैंकिंग को सुरक्षित रख सकते हैं, और क्या क्या चीजें ध्यान रखनी चाहिये, अगर आपको भी कोई विचार आ रहा है तो हमें टिप्पणी करके बताईये।

2 thoughts on “ऑनलाईन बैंकिंग की दुनिया में सुरक्षा

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *