शेयर बाजार और जुआँ खेलना क्या एक जैसा है?

मैंने लोगों को यह बहुत कहते सुना है कि शेयर बाजार में निवेश करना कैसिनों में जुआँ खेलने जैसा ही है। लोगों को लगता है कि दोनों में ही अनिश्चितता रहती है और परिस्थितियों का पता नहीं रहता है। कहते हैं कि “कभी भी पता नहीं रहता कि कब क्या हो जाये?”। जबकि वास्तविकता में […]
Continue reading…

 

बिटक्वाईन के बारे में जानें बुनियादी बातें Basic Information of Bitcoin Cryptocurrency

बिटक्वाईन के बारे में जानें बुनियादी बातें Basic Information of Bitcoin Cryptocurrency यह देखकर बहुत डर लगता है जब हमारे दोस्त और परिचित जो कि म्यूचुअल फंड (Mutual fund) में निवेश करने से तो डरते हैं, कम से कम 10 बार सोचते हैं, परंतु बिटक्वाईन (Bitcoin) में निवेश करने का निर्णय एक सेकंड में ले […]
Continue reading…

 

कठिन वित्तीय निर्णय कैसे लें?

हम सभी अपने वित्त याने पैसे के बारे में खुद ही निर्णय लेते हैं, जो कि हमारे भविष्य के लिये बेहद ही जरूरी और महत्वपूर्ण होते हैं। इतने सारे लोगों से बात करने का बाद यह समझ आता है कि बहुत से लोग तो अपने वित्त संबंधी निर्णय लेने के लिये तैयार ही नहीं हैं। […]
Continue reading…

 

सरकारी डेब्ट प्रतिभूतियाँ Debt Securities जोखिम Risk इक्विटी Equity क्या हैं?

भारत की वित्तीय एवं निवेश उद्योग को समझें – सरकारी डेब्ट प्रतिभूतियाँ Debt Securities जोखिम Risk इक्विटी Equity क्या हैं? पहला भाग पढ़ने के लिये यहाँ क्लिक करें। डेब्ट प्रतिभूतियाँ (Debt Securities) – डेब्ट बाजार घरेलू और संस्थाओं दोनों के लिये है, जिनके पास ज्यादा रकम उपलब्ध है और जिनको रकम की जरूरत है। सर्टिफिकेट […]
Continue reading…

 

भारत की वित्तीय एवं निवेश उद्योग को समझें – मुद्रा, वित्तीय परिसंपत्तियाँ, प्रतिभूतियाँ Indian Financial and Investment Industry Money

Basic Concept – वित्तीय तंत्र बाजार और संस्थाओं का जाल होता है, जो कि अर्थव्यवस्था में धन को सभी विभागों तक पहुँचाते हैं। विभिन्न विभागों में धन संचार कई तरीकों से होता है जैसे मुद्रा (Money), वित्तीय पूँजी, प्रतिभूतियाँ (डेब्ट, इक्विटी)। सबसे पहले हम इन बुनियादी बातों को समझते हैं, जो कि हमें इस वित्तीय […]
Continue reading…

 

उम्र के साथ निवेश के तरीके भी बदलिये Change Investment Types with your Age

आपकी उम्र के साथ ही आपके निवेश करने के तरीके भी बदलने चाहिये। Change Investment Types with your Age बदलाव ही जीवन है, क्योंकि आपकी उम्र, आपका निवेश, आपकी कमाई सब कुछ बदलता है। 20 वर्ष में – निवेश – इक्विटी म्यूचुअल फंड्स एवं टैक्स सेविंग इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम(ELSS), सस्ते जीवन बीमा (Life Insurance) […]
Continue reading…

 

DPD (Days Past Dues) क्या है और इसका सिबिल स्कोर और रिपोर्ट पर क्या असर है?

DPD (Days Past Dues) का मतलब कि आपने ऋण की किश्त कितनी देरी से भरी है, यह बहुत आम बात है, परंतु जिसने ऋण लिया है उसके लिये बहुत मुश्किल भी है।
Continue reading…

 

अगर SIP की कुछ किश्तें न भर पायें तो क्या करें? What if you miss SIP installments?

SIP में निवेश करना याने कि लंबी अवधि के लिये अपने निवेश के लिये प्रतिबद्धता है। आप अपने म्यूचुअल फंड हाऊस को हर महीने या त्रैमासिक, किसी एक दिन पर बैंक से सीधे पैसे लेने की मंजूरी दे देते हैं, जिसे कि ऑटो डेबिट सुविधा भी कहा जाता है। पहले यह एक फॉर्म पर देना […]
Continue reading…

 

आप किस प्रकार के निवेशक हैं? Which type of Investor you are?

बाजार में कैसे निवेश करें आजकल सभी लोगों का यही प्रश्न होता है। मजे की बात है कि सभी लोग इस प्रश्न का उत्तर अपने अपने हिसाब से देते हैं, इसका कारण है कि सबका अपना अलग अनुभव होता है। जितने पुराने निवेशक (Investor) हैं उनमें दो ही प्रकार के निवेशक हैं –
Continue reading…

 

शेयर जल्दबाजी में खरीदो और फिर बाद में पछतावा करो Share – Buy in Hurry and later regret

जल्दबाजी में खरीदो और फिर बाद में पछतावा करो Share – Buy in Hurry and later regret तेज बाजार याने कि बुल मार्केट में कंपनी की क्वालिटी याने की गुणवत्ता का कोई फर्क नहीं पड़ता हैं। अधिकतर बुल मार्केट में कम समय में जितनी बुरी कंपनी की क्वालिटी उतने ही अच्छे लाभ मिलते हैं। जब […]
Continue reading…