भारत की वित्तीय एवं निवेश उद्योग को समझें – मुद्रा, वित्तीय परिसंपत्तियाँ, प्रतिभूतियाँ Indian Financial and Investment Industry Money

Basic Concept – वित्तीय तंत्र बाजार और संस्थाओं का जाल होता है, जो कि अर्थव्यवस्था में धन को सभी विभागों तक पहुँचाते हैं। विभिन्न विभागों में धन संचार कई तरीकों से होता है जैसे मुद्रा (Money), वित्तीय पूँजी, प्रतिभूतियाँ (डेब्ट, इक्विटी)। सबसे पहले हम इन बुनियादी बातों को समझते हैं, जो कि हमें इस वित्तीय […]
Continue reading…

 

सावधि जमा के 5 नियम आप शायद न जानते हों 5 Rules of Fixed Deposit, you may not know

हम लोग अपनी जमा अधिकतर Fixed Deposit में ही रखते हैं, परंतु हम बहुत से नियमों के बारे में नहीं जानते हैं, आईये हम आपको बताते हैं 5 नियम जो कि आपकी सावधि जमा पर लागू होते हैं – सावधि जमा पर बीमा (Insurance on Deposits) DICGC ( Deposit Insurance and Credit Guarantee Corporation) बीमा […]
Continue reading…

 

Are you ready for less interest rates कम ब्याज दर के लिये तैयार हैं?

Are you ready for less interest rates कम ब्याज दर के लिये तैयार हैं? जो लोग अभी तक अपनी बचत को बैंक में या फिर छोटी बचत की योजनाओं में निवेश कर रहे थे, उनके लिये ये बुरे दिन हैं, और वे अब बहुत बड़ी परेशानी का सामना कर रहे हैं, क्योंकि आजकल बैंकों में […]
Continue reading…

 

बचत का कितना प्रतिशत फिक्स रिटर्न में और कितना जोखिम में Investment percentage in Fixed and Risky return Instruments

बचत का कितना प्रतिशत फिक्स रिटर्न में और कितना जोखिम में Investment percentage in Fixed and Risky return Instruments सभी लोग बचत करते हैं, परंतु सभी को संशय रहता है कि बचत का कितना प्रतिशत फिक्स रिटर्न में और कितना प्रतिशत जोखिम वाले बाजार में लगाना चाहिये। इसे हम कहते हैं एसेट एलोकेशन और सभी […]
Continue reading…

 

फिक्सड डिपॉजिट पर ब्याज कम होने के बाद पहले जितना ब्याज कैसे कमायें How to earn more after cut in Fixed Deposit Interest

फिक्सड डिपॉजिट पर ब्याज कम होने के बाद पहले जितना ब्याज कैसे कमायें How to earn more after cut in Fixed Deposit Interest अभी जब से मियादी जमा पर ब्याज दर कम हो गई है तब से लोग म्यूचुयल फंड और शेयर बाजार के बारे में ज्यादा जानने की कोशिश कर रहे हैं। कुछ लोग […]
Continue reading…

 

आपको क्रेडिट कार्ड (Credit Card) मियादी जमा (Fixed Deposit) पर भी मिल सकता है।

क्रेडिट कार्ड के बारे में सभी बातें करते हैं, पर समस्या यह है कि बैंकें हर किसी को क्रेडिट कार्ड नहीं देती हैं। क्योंकि इसमें बैंकों के लिये भी जोखिम होता है, क्रेडिट कार्ड देने के पहले बैंकें कार्डधारक की सारी जानकारी अपने स्तर पर जुटाकर संतुष्ट हो जाती हैं कि ये धारक पैसा वापस […]
Continue reading…

 

आयकर में छूट पाने के लिये सही जगह निवेश करें

आयकर में छूट पाने के लिये हम जीवन भर निवेश के बारे में योजना बना सकते हैं, पर अगर एक बार आप तैयार हो जायें तो योजना की मनोस्थिती से बाहर आकर निवेश करना शुरू करें। हमेशा योजना की मनोस्थिती में रहना भी ठीक नहीं, कभी न कभी तो योजना पर अमल करना भी जरूरी […]
Continue reading…

 

जानें Risk क्या है – हिन्दी में

    Risk याने जोखिम क्या होता है? हम सभी जानते हैं पर अगर इसे निवेश की भाषा में जानना है तो इसके कई अलग मायने होते हैं। हम सभी अपने जीवन में कई Risk लेते हैं, कई बोलते हैं कि हम खतरों के खिलाड़ी हैं। पर जहाँ बात अपने investment की आती है, अच्छे अच्छे […]
Continue reading…

 

Mutual Fund में Direct Plan या Regular Plan – दूसरा भाग

पिछले ब्लॉग में आपने पढ़ा कि आपको  Direct Plan से कितना फायदा हो सकता है। म्यूचयल फंड में Direct Plan या Regular Plan प्रत्यक्ष निवेश (Direct Plan) के लिये mutual fund के बारे में पहले से जानकारी होना जरूरी है –     जब आप किसी भी adviser के पास जाते हैं तो उसके पास बहुत […]
Continue reading…

 

क्या आप सुरक्षित आर्थिक जीवन के लिये प्रतिबद्ध हैं ?

    हम कमाते हैं, हम घर के खर्चों को उठाते हैं, बैंक के ऋण की किस्त चुकाते हैं और हमारी बचत बैंक में हो ही रही है। और फिर बाद में हम अपनी कमाई की बचत से सावधि जमा (Fixed Deposit) बनवा लेते हैं और थोड़े समय बाद फिर से एक और बनवा लेते हैं। […]
Continue reading…