सरकारी डेब्ट प्रतिभूतियाँ Debt Securities जोखिम Risk इक्विटी Equity क्या हैं?

भारत की वित्तीय एवं निवेश उद्योग को समझें – सरकारी डेब्ट प्रतिभूतियाँ Debt Securities जोखिम Risk इक्विटी Equity क्या हैं? पहला भाग पढ़ने के लिये यहाँ क्लिक करें। डेब्ट प्रतिभूतियाँ (Debt Securities) – डेब्ट बाजार घरेलू और संस्थाओं दोनों के लिये है, जिनके पास ज्यादा रकम उपलब्ध है और जिनको रकम की जरूरत है। सर्टिफिकेट […]
Continue reading…

 

भारत की वित्तीय एवं निवेश उद्योग को समझें – मुद्रा, वित्तीय परिसंपत्तियाँ, प्रतिभूतियाँ Indian Financial and Investment Industry Money

Basic Concept – वित्तीय तंत्र बाजार और संस्थाओं का जाल होता है, जो कि अर्थव्यवस्था में धन को सभी विभागों तक पहुँचाते हैं। विभिन्न विभागों में धन संचार कई तरीकों से होता है जैसे मुद्रा (Money), वित्तीय पूँजी, प्रतिभूतियाँ (डेब्ट, इक्विटी)। सबसे पहले हम इन बुनियादी बातों को समझते हैं, जो कि हमें इस वित्तीय […]
Continue reading…

 

आयकर में छूट पाने के लिये सही जगह निवेश करें

आयकर में छूट पाने के लिये हम जीवन भर निवेश के बारे में योजना बना सकते हैं, पर अगर एक बार आप तैयार हो जायें तो योजना की मनोस्थिती से बाहर आकर निवेश करना शुरू करें। हमेशा योजना की मनोस्थिती में रहना भी ठीक नहीं, कभी न कभी तो योजना पर अमल करना भी जरूरी […]
Continue reading…

 

KYC Compliance म्यूचयल फंड या बाजार में निवेश के लिये जरूरी है।

  अगर आप म्यूचयल फंड या बाजार में याने कि सीधे स्टॉक, बॉन्ड या कमोडिटी में निवेश करना चाहते हैं तो निवेशक को सेबी (SEBI) की जरूरत याने कि Know Your Customer KYC Compliance को पूरा करना होता है। हर व्यक्ति निवेश करना चाहता है परंतु केवल Know Your Customer (KYC) को जटिल प्रक्रिया मानकर […]
Continue reading…

 

क्या आप सुरक्षित आर्थिक जीवन के लिये प्रतिबद्ध हैं ?

    हम कमाते हैं, हम घर के खर्चों को उठाते हैं, बैंक के ऋण की किस्त चुकाते हैं और हमारी बचत बैंक में हो ही रही है। और फिर बाद में हम अपनी कमाई की बचत से सावधि जमा (Fixed Deposit) बनवा लेते हैं और थोड़े समय बाद फिर से एक और बनवा लेते हैं। […]
Continue reading…