सेवानिवृत्ति के बाद भी क्या ELSS में निवेश जारी रखना चाहिये ?

सेवानिवृत्ति के बाद भी क्या ELSS में निवेश जारी रखना चाहिये ? ELSS याने कि Equity Linked Saving Schemes आयकर की धारा 80 C में एकमात्र ऐसा उत्पाद है जिसका लॉकइन समय सबसे कम है, याने कि केवल 3 वर्ष बाकी के उत्पादों याने कि PPF, NSC, FD के लॉकइन समय 5 वर्ष या इससे […]
Continue reading…

 

फिक्सड डिपॉजिट पर ब्याज कम होने के बाद पहले जितना ब्याज कैसे कमायें How to earn more after cut in Fixed Deposit Interest

फिक्सड डिपॉजिट पर ब्याज कम होने के बाद पहले जितना ब्याज कैसे कमायें How to earn more after cut in Fixed Deposit Interest अभी जब से मियादी जमा पर ब्याज दर कम हो गई है तब से लोग म्यूचुयल फंड और शेयर बाजार के बारे में ज्यादा जानने की कोशिश कर रहे हैं। कुछ लोग […]
Continue reading…

 

आयकर में छूट पाने के लिये सही जगह निवेश करें

आयकर में छूट पाने के लिये हम जीवन भर निवेश के बारे में योजना बना सकते हैं, पर अगर एक बार आप तैयार हो जायें तो योजना की मनोस्थिती से बाहर आकर निवेश करना शुरू करें। हमेशा योजना की मनोस्थिती में रहना भी ठीक नहीं, कभी न कभी तो योजना पर अमल करना भी जरूरी […]
Continue reading…

 

KYC Compliance म्यूचयल फंड या बाजार में निवेश के लिये जरूरी है।

  अगर आप म्यूचयल फंड या बाजार में याने कि सीधे स्टॉक, बॉन्ड या कमोडिटी में निवेश करना चाहते हैं तो निवेशक को सेबी (SEBI) की जरूरत याने कि Know Your Customer KYC Compliance को पूरा करना होता है। हर व्यक्ति निवेश करना चाहता है परंतु केवल Know Your Customer (KYC) को जटिल प्रक्रिया मानकर […]
Continue reading…

 

Mutual Fund में Direct Plan या Regular Plan – दूसरा भाग

पिछले ब्लॉग में आपने पढ़ा कि आपको  Direct Plan से कितना फायदा हो सकता है। म्यूचयल फंड में Direct Plan या Regular Plan प्रत्यक्ष निवेश (Direct Plan) के लिये mutual fund के बारे में पहले से जानकारी होना जरूरी है –     जब आप किसी भी adviser के पास जाते हैं तो उसके पास बहुत […]
Continue reading…

 

म्यूचयल फंड में Direct Plan या Regular Plan

    प्रचलित तरीके (Regular Plan) से म्यूचयल फंड (Mutual Fund) में निवेश करने से ज्यादा फायदा है या प्रत्यक्ष निवेश (Direct Plan) करने से, यहाँ पर हम कुछ बिंदुओं पर चर्चा करेंगे।     प्रचलित तरीके से म्यूचयल फंड में निवेश करने में हमें डिस्ट्रीब्यूटर (Distributor) को कमीशन (Commission) देना पड़ता है जबकि प्रत्यक्ष निवेश करने से […]
Continue reading…