उम्र के साथ निवेश के तरीके भी बदलिये Change Investment Types with your Age

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

आपकी उम्र के साथ ही आपके निवेश करने के तरीके भी बदलने चाहिये।

Change Investment Types with your Age

बदलाव ही जीवन है, क्योंकि आपकी उम्र, आपका निवेश, आपकी कमाई सब कुछ बदलता है।

20 वर्ष में –

निवेश – इक्विटी म्यूचुअल फंड्स एवं टैक्स सेविंग इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम(ELSS), सस्ते जीवन बीमा (Life Insurance) और स्वास्थ्य बीमा प्लॉन (Mediclaim) खरीदें।

क्यों – बहुत कम जिम्मेदारियाँ और देनदारियाँ, कम उम्र होने के कारण बीमाओं की प्रीमियम भी काफी कम होगी।

30 वर्ष में –

निवेश – इक्विटी स्कीम और साथ ही थोड़े से डेब्ट फंड में निवेश, टैक्स ELSS के साथ बचायें।

क्यों – आप अपने लिये और अपने परिवार के लिये लंबी अवधि के लिये सोचें, डेब्ट निवेश कम जोखिम का होता है।

40 वर्ष में –

निवेश – इक्विटी म्यूचुअल फंड, बैलेन्सड फंड, टैक्स ELSS एवं रिटायरमेंट प्लॉन।

क्यों – परिवार की बहुत सारी जिम्मेदारियाँ आपके कंधे पर होती हैं।

50 वर्ष में –

निवेश – सिस्टमेटिक ट्रांसफर प्लॉन के द्वारा इक्विटी से डेब्ट फंड में निवेश ले जाना।

क्यों – सेवानिवृत्ति होने के करीब होने से डेब्ट फंड में निवेश ले जाना चाहिये, जहाँ बहुत ज्यादा जोखिम नहीं होता है।

60 वर्ष में –

निवेश – सिस्टमेटिक विद्ड्रॉल प्लॉन आपके निवेशों से। Monthly Income Plans (MIP) and Senior Citizen Saving Schemes.

क्यों – आपको कम जोखिम वाले प्लॉन में निवेश करना चाहिये, जिसमें नियमित आय होती रहे।

https://www.youtube.com/watch?v=ov3C6l2iM78

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *