5 गोपनीय बातें जो किसी को नहीं बताना चाहिये Don’t share these 5 Secrets with anyone

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

5 गोपनीय बातें जो किसी को नहीं बताना चाहिये Don’t share these 5 Secrets with anyone

हमें हमेशा ही सलाह दी जाती है कि हर चीज को मिल बाँटकर उपयोग करना चाहिये और इससे प्यार बढ़ता है, इस तरह की बातें लगभग हर समय आती हैं जब भी हम अपने बच्चों या परिवार के साथ समय बिताते हैं। फिर भले वह भोजन के लिये हो या खिलौने या मिठाई किसी भी बात के लिये हो, परंतु इन सबमें मिल बाँटकर उपयोग करने से वाकई प्यार बढ़ता है। परंतु जब बात आती है वित्तीय जानकारी की तो जहाँ तक हो सके इन वित्तीय जानकारी को अपनी पत्नी क्या अपने बच्चों को भी नहीं बताना चाहिये।

कार्ड की जानकारी –

Card information

Card information

क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड का नंबर, एक्सपायरी दिनाँक, आपका पूरा नाम जो कार्ड पर है, वैसे तो बहुत सारे लोग आपका नाम जानते ही होंगे, परंतु फिर भी अपने कार्ड से संबंधित कोई भी जानकारी किसी को भी नहीं दें। जब भी ऑनलाईन ट्रांजेक्शन करते हैं तब ये सारी जानकारियाँ देनी होती हैं। यही जानकारी पहली सुरक्षा चक्र को भेदने जैसे होती है। अगर किसी के पास यह जानकारी नहीं है तो कोई आपके क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड का उपयोग नहीं कर सकता। अपनी इन सारी जानकारियों को सुरक्षित रखें, इसे किसी को भी न बतायें और न ही पता चलने दें।

CVV – हर डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड का कार्ड वेरिफिकेशन वेल्यू याने कि CVV होता है, जो कि कार्ड के पीछे की तरफ होती है। ऑनलाईन ट्रांजेक्शन को पूरा करने के लिये इसकी जरूरत होती है, यह जानकारी भी आपके कार्ड पर छपी होती है और इस जानकारी को आपको किसी को भी नहीं बताना चाहिये।

CVV Information

CVV Information

पासवर्ड –

password

password

अगर आप नेट बैंकिंग या ऑनलाईन ट्रांजेक्शन के लिये क्रेडिट कार्ड का उपयोग करते हैं, तो आपको पता होना चाहिये कि ट्रांजेक्शन बिना गोपनीय जानकारी दिये बिना पूरा नहीं किया जा सकता है, जैसे कि कस्टमर आईडेंटिफिकेशन नंबर या यूजर आईडी, कार्ड की जानकारी और उसका पासवर्ड। आपके कार्ड पर जो जानकारी है वह तो शायद फिर भी आपकी जानकारी के बिना भी कोई जान सकता है परंतु पासवर्ड एक ऐसी सुरक्षा है जो केवल और केवल आपको पता होता है। आप इसके बारे में किसी के कुछ भी नहीं बतायें। ध्यान रखें कि अपने पासवर्ड एक निश्चित समय सीमा के बाद बदलते रहें।

पिन –

pinडेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड से एटीएम से पैसे निकालने के लिये आपको पर्सनल आईडेंटिफिकेशन नंबर याने कि पिन की जरूरत होती है, उसके बिना आप एटीएम से पैसे नहीं निकाल सकते हैं। पिन जो है वह बहुत ही गोपनीय होना चाहिये और सुरक्षा के लिहाज से यह बहुत ही जरूरी भी है। पिन नंबर को कभी भी किसी को नहीं बताना चाहिये और जब भी एटीएम या किसी PoS मशीन पर स्वाईप कर रहे हों तो अपना पिन नंबर डालते समय यह जरूर सुनिश्चित कर लें कि कोई और आपका पिन नहीं देख रहा है, नहीं तो दूसरे हाथ से कीपैड छुपा लें। ध्यान रखें कि इस गोपनीय पिन को चुराना बहुत ही आसान है, कोई भी आपके पीछे खड़े होकर यह आराम से देख सकता है।

ओटीपी –

OTPवन टाइम पासवर्ड याने कि ओटीपी यह ट्रांजेक्शन को बहुत ही सुरक्षित बनाने के लिये टू फेक्टर अथेंटिकेशन के लिये शुरू किया गया है, जो कि आपके सारे ऑनलाईन ट्रांजेक्शन सुरक्षित करता है। जब भी आप क्रेडिट कार्ड से ऑनलाईन कोई भी खरीददारी करते हैं या नेट बैंकिंग या वैलेट से करते हैं तो इसके लिये एक ओटीपी आपके पंजीकृत मोबाईल पर भेजा जाता है, और यह ट्रांजेक्शन के पूरा होने की आखिरी सुरक्षा होती है, और यहाँ तक आप बहुत सारे सुरक्षा चक्रों को पार करके पहुँचते हैं। ध्यान रखें कि अगर आप अपने ओटीपी को किसी को भी बता रहे हैं तो आप सीधे सीधे अपनी पूरी वित्तीय जानकारी कुछ मिनिट या एक ट्रांजेक्शन के लिये किसी को दे रहे हैं और कोई भी इस बात का गलत फायदा उठाकर पूरा खाता साफ कर सकता है। हमेशा ही अगर कोई भी आपसे इन जानकारियों को साझा करने की बात करे तो हमेशा ही उस वयक्ति को आप शक की नजरों से देखें और यह भी ध्यान रखें कि आपका बैंक या कोई और वित्तीय संस्था कभी भी इस तरह की जानकारी अपने ग्राहक से नहीं माँगती हैं। कई बार इसी बाबद बैंक अपने ग्राहकों को सुरक्षित रहने के मद्देनजर SMS भेजती रहती हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *