Get loan even if you have low credit score क्रेडिट स्कोर खराब हो, तो ऋण लेने के लिए क्या करें

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

आपके ऋण का आवेदन अस्वीकार कर दिया गया है क्योंकि आपका क्रेडिट स्कोर खराब है, तो बहुत सारे विकल्प बैंक के बाहर भी उपलब्ध हैं। Get loan even if you have low credit score.

आपका क्रेडिट स्कोर बहुत महत्वपूर्ण है और आपको ऋण मिलेगा या नहीं मिलेगा उस में यह अहम भूमिका निभाता है। साधारणतया खराब क्रेडिट स्कोर ही ऋण अस्वीकार होने की परिस्थिति को उत्पन्न करता है। खास करके अगर आपने बैंक में ऋण के लिए आवेदन किया है।

आपके पास और कौन से विकल्प उपलब्ध हैं अगर आपकी जरूरत थोड़े दिनों के लिए आप टाल सकते हैं, तो भी आप अपना क्रेडिट स्कोर अच्छा करने के लिए कुछ काम कर सकते हैं। नहीं तो बैंक के बाहर बहुत सारे विकल्प मौजूद हैं और उन्हें तलाशना चाहिए लेकिन ध्यान रखिए बैंक के बाहर जितने भी विकल्प हैं, वह सब नियमित बैंकों Bank से बहुत महँगे हैं और उन्हें तभी उपयोग करना चाहिए जब बहुत ही ज्यादा मजबूरी हो।

क्रेडिट स्कोर अच्छा करना

Low Credit Score

Low Credit Score

सबसे पहले आपको यह जानना चाहिए कि अगर आपका ऋण बैंक ने अस्वीकार कर दिया है क्योंकि आपका क्रेडिट स्कोर खराब है, तो आपको अन्य बैंकों में आवेदन देना बंद कर देना चाहिये। इसका कारण यह है कि जितना ज्यादा आवेदन आप बैंकों में देंगे, उतना ज्यादा बैंकों से ऋण के लिए अस्वीकार किया जाना आपका क्रेडिट स्कोर और खराब कर देता है। क्योंकि हर बार जब भी बैंक आपको ऋण देने के लिए क्रेडिट स्कोर चेक करता है, तो आपकी क्रेडिट रेटिंग अपने आप कम हो जाती है। जो भी बैंक आपके क्रेडिट स्कोर चेक करते हैं उसकी एंट्री सिबिल रिपोर्ट में दर्ज हो जाती है।

अगर आप अपना ऋण 6 महीने से 1 साल के लिए लेना टाल दें तो आप इस समय का उपयोग अपने क्रेडिट स्कोर को अच्छा करने में उपयोग कर सकते हैं। क्रेडिट स्कोर ठीक करने का काम आप अपने नियमित किश्तों को चुकाकर, जो कि आपके अभी के चल रहे लोग की हो सकती हैं और आपके ऊपर कोई देनदारी ना हो या फिर आपके बहुत सारे लोग हैं तो आप उनको बंद करके केवल एक ऋण कर लें या फिर आप अपने दोस्तों या परिवार से थोड़ा बहुत उधार लेकर अपने जो चल रहे ऋण हैं उनको बंद कर दें।

अगर आपके पास में बहुत सारे क्रेडिट कार्ड हैं तो आप अपने क्रेडिट कार्ड सरेंडर कर दें। आप अपनी क्रेडिट लिमिट का 30 से 40% से ज्यादा का उपयोग ना करें। आप अपने क्रेडिट कार्ड का बिल पूरा और समय से भर दें। कोई भी भुगतान आधा अधूरा न करें। अगर तब भी आपका क्रेडिट स्कोर अच्छा नहीं हो जाता है तो भी जो अनुशासन आप दिखायेंगे, इससे नये ऋण के मिलने की संभावना ज्यादा है। क्योंकि बहुत सारी बैंकिंग कंपनियाँ आपके कम क्रेडिट स्कोर को नजरअंदाज करके केवल इसलिए भी ऋण दे सकते हैं कि आपने नियमित किश्तें भरी हैं, जो कि पिछले 12 महीने उससे अधिक अवधि की होना चाहिये।

NBFC के पास जाइए

nbfc

अगर आपको एकदम से पैसे की जरूरत है और आपका क्रेडिट स्कोर खराब है तो बैंक से ऋण मिलने की उम्मीद नहीं करना चाहिए लेकिन कुछ गैर बैंकिंग वित्तीय संस्थान एनबीएफसी NBFC यहाँ पर आपकी मदद कर सकते हैं। ध्यान रखिये एनबीएफसी NBFC आपको कम क्रेडिट स्कोर होने की वजह से कुछ अलग तरीके से इसका फायदा उठायेगी, जैसे कि अधिक ब्याज दर आपके ऋण देना।

अगर आपका क्रेडिट स्कोर बहुत अच्छा है तो एनबीएफसी NBFC उनको 11 से 17 प्रतिशत तक ब्याज दर लगाता है। लेकिन जिनका क्रेडिट स्कोर बहुत कम है उनका ब्याज दर ही 18 प्रतिशत से शुरू होता है, जो कि 28 या 30% तक जा सकता है। यहाँ तक कि कुछ एनबीएफसी NBFC फिक्स इंटरेस्ट रेट भी देते हैं फिर भले ही आपका क्रेडिट स्कोर कुछ भी हो। दूसरी बात आपका क्रेडिट स्कोर कम है तो आपको एक को एप्लिकेंट भी चाहिए या फिर आपको कुछ कोलेटरल सुरक्षा के रुप में देना होगा। साथ ही अन्य शुल्क भी देना होंगे, जो कि प्रोसेसिंग फीस या कुछ और भी हो सकते हैं और यह सब फीस बैंकों से ज्यादा होंगे।

पियर टू पियर लैंडिंग P2P Lending

p2p lending

दूसरा विकल्प है पीयर टू पीयर लेंडिंग P2P Lending तो यहाँ पर एक थर्ड पार्टी व्यक्तिगत रूप से ऋण प्रदान करती है। एक ब्रोकर के साथ आपको करना क्या होगा कि आपको P2P Lending के प्लेटफार्म पर रजिस्टर करना होगा। जिसकी फीस ₹500 से ₹1500 तक होगी और उसमें आपको अपनी सारी जानकारी दर्ज करवाना होगी, जैसे कि आपका नाम, पता आय की जानकारी, टैक्स के स्टेटमेंट इत्यादि जिसे केवाईसी प्रोसेस भी कहा जाता है। उसके बाद में यह प्लेटफार्म आपको ऋण देने वाले से मिलवा देगा और ब्याज दर 12% से 30% तक हो सकती है जिसकी समय सीमा 3 महीने से 36 महीने तक होती है। ऋण की प्रोसेसिंग फीस ब्याज के दर पर निर्भर करती है जो आपको ऋण पर मिला है। अगर ब्याज दर कम है तो प्रोसेसिंग फीस कम होगी और अगर ब्याज दर ज्यादा है तो प्रोसेसिंग फीस ज्यादा होगी। एनीटाईमलोन, लैंडबॉक्स, लेनदेन क्लब, पीयरलेंड यह कुछ P2P Lending के प्लेटफार्म बाजार में उपलब्ध है।

पी टू पी P2P Lending से एनबीएफसीअच्छा है –
NBFC से ऋण लेना P2P Lending से ऋण लेने से ज्यादा अच्छा है, क्योंकि एनबीएफसी NBFC भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा रेगुलेट किया जाता है जबकि P2P Lending नहीं, दूसरी बात अगर आप एनबीएफसी से लिये गये ऋण की नियमित किश्त चुकाते हैं तो आपका क्रेडिट स्कोर अच्छा होता है। जबकि P2P Lending से ऐसा नहीं होता है, हो सकता है थोड़े दिनों में भारतीय रिजर्व बैंक P2P Lending के लिए भी कुछ नियम लेकर आ जायें और इसे भी रेगुलेट करने लगें P2P Lending में सबसे बड़ी बात यह है कि अगर कोई समस्या आ जाये तो वहाँ पर समस्या सुलझाने के लिए कोई कानूनी रास्ता नहीं है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *