फिक्सड डिपॉजिट पर ब्याज कम होने के बाद पहले जितना ब्याज कैसे कमायें How to earn more after cut in Fixed Deposit Interest

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

फिक्सड डिपॉजिट पर ब्याज कम होने के बाद पहले जितना ब्याज कैसे कमायें How to earn more after cut in Fixed Deposit Interest

अभी जब से मियादी जमा पर ब्याज दर कम हो गई है तब से लोग म्यूचुयल फंड और शेयर बाजार के बारे में ज्यादा जानने की कोशिश कर रहे हैं। कुछ लोग जो केवल ब्याज से ही अपना गुजारा कर रहे हैं वे भी अब म्यूचुयल फंड के बारे में समझना चाहते हैं, जिससे कि उन्हें कम ब्याज का नुक्सान अपनी जीवन यापन में न करना पड़े। अगर अभी तक किसी के पास 20 लाख रूपये हैं और उन्होंने बैंक में जमा कर रखे हैं, तो सीनियर सिटिजन के तहत शायद अच्छा ब्याज भी मिल रहा होगा, शायद 9 प्रतिशत तक।

अब जब बैंकों के ब्याज दर में भारी कमी आ गई है तो सीनियर सिटिजन के लिये अभी भारतीय स्टेट बैंक की ब्याज दर 7 प्रतिशत चल रही है। अगर 9 प्रतिशत की दर से ही हम ब्याज की गणना करें तो साल भर के 1,80,000 रूपये होते हैं जो कि प्रतिमाह 15,000 रूपये होते हैं, जिस पर 10 % टीडीएस भी कटेगा याने कि साल भर का टीडीएस ही लगभग 18,000 रूपये कट जायेगा तो प्रतिमाह 15,000 की रकम भी कम हो जायेगी जो कि लगभग 13,500 रूपये होती है। अब जब 7 प्रतिशत ब्याज हो जायेगा तो केवल 1,40,000 रूपये सालभर के मिलेंगे और 11,600 रूपये प्रतिमाह तथा टीडीएस कटने के बाद लगभग 10,000 रूपये। तो यहाँ बैठे बिठाये आपको लगभग 3500 रूपयों का खर्चा कम करना होगा।

फिक्सड डिपॉजिट की एक और बात यह है कि आपको ब्याज तो मिलता रहेगा परंतु आपका मूलधन याने कि 20 लाख रूपये उतने ही रहने वाले हैं, जो कि इन्फलेशन के कारण आने वाले समय में बहुत ही कम हो जायेंगे। इसके लिये अब सीनियर सिटिजन को भी अपनी निवेश की रणनीति बदलनी चाहिये। सरकार ने कहा है कि 8 लाख तक 8 प्रतिशत का फायदा सीनियर सिटिजन को देंगे तो आप 8 लाख रूपये तो फिक्सड डिपॉजिट में ही रखिये और बाकी की रकम को म्यूचुयल फंड में लगाने के बारे में विचार करिये।

आप अपने बचे हुए 12 लाख रूपयों को किसी अच्छे म्यूचुयल फंड में लगायें, इन रूपयों को म्यूचुयल फंड में एक साथ निवेश न करें, हर माह एक लाख रूपयों का निवेश करें तो आपको बाजार के उतार चढ़ाव का फायदा मिल जायेगा और इस तरह 12 माह में आपका पूरा पैसा म्यूचुयल फंड में निवेशित भी हो जायेगा। ध्यान रखें अगर 12 माह के पहले जब भी आप अपने निवेश में से कुछ रकम निकालेंगे याने कि कुछ यूनिट बेचकर अपने खर्च के लिये पैसे निकाल रहे हैं तो उस पर हुए लाभ पर शार्टटर्म कैपिटल गैन टैक्स देय होगा जो कि 15 प्रतिशत है। अगर आप अपने निवेश में से 12 माह के बाद रकम निकालना शुरू करते हैं तो आप लाँग टर्म कैपिटल गैन टैक्स के अंतर्गत आते हैं जो कि आयकर के दायरे में नहीं आता है। क्योंकि 12 माह के बाद निकालने पर होने वाले लाभ पर आयकर में छूट प्राप्त है।

हर माह आप अपने आप ही पैसा आपके बैंक एकाऊँट में आ जाये तो उसके लिये आप SWP याने कि Systematic Withdrawal Plan का उपयोग करें। जब आप SWP का उपयोग करते हैं तो आयकर की गणना प्रथम निवेश और प्रथम निकास से होती है, इसे FIFO याने कि First In First Out भी कहा जाता है। 12 लाख पर आप लगभग 9 हजार रूपये प्रतिमाह निकालिये, जिससे आपके मूलधन 12 लाख को भी बढ़ने का मौका मिलेगा, बाजार के रूख पर निर्भर करता है कि हो सकता है कि कुछ समय के बाद आपका यह 12 लाख रूपया बड़कर 15 लाख रूपया भी हो सकता है। निवेश करने के पहले अपनी जोखिम क्षमता को जरूर परख लें और कोशिश करें कि जितना पैसा आपको अभी तक बैंक से टीडीएस कटने के बाद मिलता था, उतना ही निकालें।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *