Mutual Fund में Direct Plan या Regular Plan – दूसरा भाग

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

पिछले ब्लॉग में आपने पढ़ा कि आपको  Direct Plan से कितना फायदा हो सकता है।

म्यूचयल फंड में Direct Plan या Regular Plan

प्रत्यक्ष निवेश (Direct Plan) के लिये mutual fund के बारे में पहले से जानकारी होना जरूरी है –

    जब आप किसी भी adviser के पास जाते हैं तो उसके पास बहुत से जानकारी आपके लिये उपलब्ध होती है जैसे कि बहुत से mutual fund के मध्य तुलनात्मक विश्लेषण (comparative analysis) व उन्हें और भी तथ्यों facts की जानकारी होती है जो कि आपके लिये बहुत ही उपयोगी हो सकती है। बैंके और स्वतंत्र ब्रोकर (जो कि fees लेकर advice देते हैं, बेहतर है कि CFP हो) आपको मूल्यांकन में मदद करेंगे जो कि आपके लिये कौन सा mutual fund बेहतरीन हो सकता है। परंतु इतना ज्यादा तुलनात्मक विश्लेषण और जानकारी आपको ओर ज्यादा confuse कर देंगे, और आपको निवेश के लिये बेहतरीन mutual fund को चुनना बहुत ही मुश्किल होगा। एक genuine एडवाइजर ढूँढ़ना बहुत आसान काम नहीं है, क्योंकि सभी का किसी न किसी company के लिये झुकाव होता ही है। जिस company से ज्यादा commission मिलता है अधिकतर distributor वही mutual fund बताते हैं। अगर आप खुद के investment के लिये mutual fund में निवेश करना चाहते हैं तो बेहतर है कि खुद ही mutual fund के बारे में थोड़ा knowledge ले लिया जाये। It is well worth it.

Consolidation view उपलब्ध नहीं –

    Individual registration आपकी मुश्किलों को और बड़ा देता है और आपके सारे investment को एक साथ देखना बहुत ही मुश्किल हो जाता है, जो कि Bank या Broker offer कर रहे हैं। आप कभी भी अपने AMC को अपना account statement देने के लिये कह सकते हैं। और अगर आप वाकई में Consolidated view चाहते हैं तो consolidated statement view (CAS) से आपकी समस्या का समाधान हो सकता है। अब निवेशक CAS को email से request कर सकता है कि मेरी सारी holding जो कि karvy, CAMS, FTAMIL (registrar for Franklin Templeton mf) और SBFS (Sundaram BNP Paribas) के द्वारा mutual fund में निवेश की गई हैं उसका statement दे दीजिये। अभी हाल ही में central depository services limited (CDSL) या National Securities Depositories Limited (NSDL) से CAS आना शुरू हो गये हैं। SEBI (Security and Exchange Board of India) ने सभी AMCs को कह दिया है कि आपको निवेशक को monthly CAS issue करना ही है, जो कि unit holder के PAN से फोलियो के साथ आयेगा और जिनका कोई उस महीने में कोई financial transaction है।

Mutual Fund में क्या करें क्या न करें ?

KYC लेना बहुत difficult है –

    KYC (Know your customer) निवेशक को व्यक्तिगत रूप से verification करना होता है और यह अधिकतर offline (ऑफिस में जाकर करवाना) होता है। एक बार आपको form मिल जाये तो, उस form को भरकर, अपने कुछ photographs ले लें, address proof के कागजात और identity proof साथ लेकर आप form को पाँच में से किसी भी एक KYC registration agency (KRA) में जमा कर सकते हैं। KRA एक केन्द्रीय KYC agency है जो कि SEBI के guideline के अंतर्गत बनाई गई है। यह agency लगभग सारे निवेशकों और intermediary companies के रिकॉर्ड रखती है। KRAs किसी भी investor की KYC देख सकते हैं। अगर आपकी KYC हो गई है तो आप किसी भी KRA की वेबसाईट पर KYC status देख सकते हैं।

    क्या AMCs से KYC को ऑनलाईन भी apply किया जा सकता है ? कुछ कंपनियाँ जो कि किसी जगह पर अभी नहीं पहुँच पाई हैं, और अगर निवेशक उनसे KYC करवाना चाहता है तो वे निवेशको को E-KYC की सुविधा भी देते हैं, याने कि पहले सारे कागजात वे मँगवा लेते हैं और फिर webex या skype के जरिये बाकी की formality पूरी कर लेते हैं।

अब अगर mutual funds में प्रत्यक्ष निवेश direct plan से करने का फैसला कर ही लिया है तो कुछ और बातों का ध्यान रखना जरूरी है

  1. Single or joint ? हमेशा अपने एकाऊँट में nomination करवायें भले ही आपका एकाऊँट single हो या joint हो। और अगर आपने अभी तक खरीदे गये किसी भी mutual fund scheme में nomination नहीं करवाया है तो आज ही करवायें। यह आपका विशेषाधिकार है भले ही आपका एकाऊँट single हो या joint हो। सुरक्षा की दृष्टि से हमेशा अपने एकाऊँट को joint रखें। आप anyone or survivor को भी joint की जगह चुन सकते हैं, joint में आपको हमेशा दोनों के signature लगेंगे पर anyone or survivor में किसी एक के signature से ही पैसे निकालने का काम हो सकता है और साथ ही mutual fund में नया investment भी कर सकते हैं। anyone or survivor बैंक के Fixed Deposit account type के जैसा ही कार्य करता है, जैसा कि मैंने समझाया भी हुआ है।
  2. anyone or survivor या joint का सबसे बड़ा drawback यही है कि यह दोनों निवेशकों का एक ही annual information return (AIR) रिपोर्ट निकलता है, और भले ही एकाऊँट टाईप joint हो और प्रथम निवेशक ने निवेश किया है तब भी दोनों की AIR रिपोर्टिंग में यह आ जायेगा और फिर भले ही आपकी पत्नी की कोई आय नहीं हो, AIR रिपोर्टिंग आपकी और आपकी पत्नी दोनों के नाम से बनेगी क्योंकि आपने 2 लाख रूपये से ज्यादा mutual fund में invest किये हैं। AIR रिपोर्ट के आधार पर, अगर आपकी पत्नी income tax return नहीं भरती हैं तो income tax वाले source of income की query पूछ सकते हैं। तो आपकी पत्नी को income tax को बताना होगा कि वो तो केवल second account holder हैं investment तो उनके पति ने किया है।
  3. offline तरीके से direct plan में invest करना – अधिकतर mutual fund investor तभी online transaction करना चाहते हैं जब कि एक फोलियो ऑफलाईन से बन गया है, जो कि अधिकतर पहला ट्रांजेक्शन होता है। ध्यान रखिये कि जब तक किसी भी mutual fund scheme में direct नहीं जुड़ा है तो वह direct plan नहीं है। जब भी अगर किसी AMCs या registrar के यहाँ आप नया mutual fund लें तो ध्यान रखें कि broker व sub-broker वाली जगह खाली हो, कोई और यहाँ अपना कोड भरकर फायदा न उठा ले, उसके लिये broker व sub-broker वाले box में DIRECT लिख दें।अगर ऐसा नहीं करेंगे तो कोई broker व sub-broker फायदा उठाकर DIRECT plan को Regular plan बना देंगे।
  4. Online सुविधाएँ देने वाले Bank, Broker, Distributor और Websites के जरिये निवेश करना ठीक है !

Online के जमाने में बहुत सी Websites निवेश करने की सुविधाएँ देती हैं, और बताया जाता है कि हम आपको Free Service दे रहे हैं, यहाँ तक कि वे आपके KYC पूरी करने में भी मदद करेंगे, परंतु ध्यान रखें ये Websites आपको mutual funds के Direct Plan नहीं बेचते हैं। तो ये आपको जो भी mutual fund बेचेंगे वो Regular plan होगा, और इस तरह से ये Websites बहुत सारा कमीशन कमाती हैं। अगर आप किसी बैंक की branch से direct plan लेने की कोशिश करेंगे तो वे आपके mutual fund application नहीं लेंगे।

One thought on “Mutual Fund में Direct Plan या Regular Plan – दूसरा भाग

  1. नमस्कार,
    बहुत अच्छी पोस्ट है| मेरा बस एक की इनपुट है|
    डायरेक्ट प्लान्स में निवेश करना अब कोई मुश्किल काम नहीं है| अब आप online या offline दोनों तरीकों से आसानी से निवेश कर सकते हैं|
    मैंने अपनी साईट पर एक पोस्ट में इसका ज़िक्र किया है|
    आपसे अनुरोध है की इस पोस्ट को पढ़ें और अपनी feedback अवश्य दें|
    आशा करता हूँ आपके पाठकों को भी इस पोस्ट से फायदा होगा|
    Thank you!!!

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *