प्रधानमंत्री आवास योजना – क्रेडिट लिंक सबसीड़ी योजना (PMAY – CLSS)

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

प्रधानमंत्री आवास योजना – क्रेडिट लिंक सबसीड़ी योजना (PMAY – CLSS)

CLSS (क्रेडिट लिंक सबसीड़ी योजना) के अंतर्गत प्रधानमंत्री आवास योजना (PMAY) की घोषणा 1 जनवरी 2017 को माननीय प्रधानंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने की थी। इस योजना के अतर्गत सरकार का सपना है कि सन 2022 तक सबके पास अपना खुद का घर हो। लगभग सभी सरकारी और निजी बैकें क्रेडिट लिंक सबसीड़ी योजना के अंतर्गत प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ देती हैं।

प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत घर खरीदने, बनाने, बढ़ाने या ठीक कराने पर ब्याज पर सबसीड़ी दी जाती है। प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत जो भी ग्राहक Economical Weaker Section (EWS)/Lower Income Group(LIG)/Middle Income Group (MIG) में आते हैं, वे प्रधानमंत्री आवास योजना के अतर्गत ऋण ले सकते हैं।

योग्यता –

लाभार्थी परिवार ने केन्द्र सरकार से प्रधानमंत्री आवास योजना जो कि Housing for all by 2022 मिशन है, इसमें फायदा न लिया हो। लाभार्थी नौकरी या व्यापार कुछ भी करता हो।

लाभार्थी –

इस योजना से परिवार मतलब कि पति, पत्नि व अविवाहित बच्चा लाभ ले सकते हैं। (वयस्क कमाई करने वाला कोई भी परिवार का सदस्य जिसकी वैवाहिक स्थिती कुछ भी हो, उसको एक अलग परिवार के रूप में MIG वर्ग के अंतर्गत माना जा सकता है)

परिवार याने कि पति, पत्नि या परिवार के किसी भी सदस्य के नाम पर पूरे भारत में कहीं भी पक्का घर नहीं होना चाहिये।

विशेषतायें –

सब्सीड़ी का फायदा अग्रिम ब्याज के रूप में बकाया मूलधन पर

MIG वर्ग में परिवार के सभी सदस्यों का आधार नंबर जरूरी

ब्याज के रूप में मिलने वाली सब्सीड़ी अधिकतम 20 वर्ष के ऋण पर या फिर ऋणी के ऋण की जो भी अवधि है, और दोनों में से जो भी कम हो।

ऋण की रकम या या प्रॉपर्टी की कीमत पर पर कोई अधिकतम सीमा नहीं है।

ब्याज के रूप में मिलने वाली सबसीड़ी नेट प्रेजेन्ट वेल्यू (NPV) के 9% Discount Rate पर गणना की जायेगी।

अतिरिक्त ऋण जो कि नियत ऋण की रकम से ज्यादा है, उसके ब्याज पर सबसीड़ी नहीं मिलेगी।

क्रेडिट लिंक सबसीड़ी के मुख्य मानदंड –

PMAY-CLSS

आपको कितना ऋण मिल सकता है इसकी गणना के लिये आपको अपनी सैलेरी स्लिप, आयकर प्रपत्र, बैंक स्टेटमेंट व चल रहे ऋणों की जानकारी देनी होती है।

उदाहरण – अगर 8 लाख रूपयों का ऋण मिलता है और अगर सबसीड़ी मिली है 2,20,000 रूपयों की मिलती है तो 2,20,000 रूपये 8 लाख रूपयों के ऋण में से सीधे कम हो जायेंगे। ऋण की रकम 2,20,000 रूपये कम हो जायेगी याने कि ऋणी के ऋण की रकम हो जायेगी 5,80,000 रूपयों पर EMI बनेगी।

(यह उदाहरण केवल समझाने के लिये है, सबसीड़ी की रकम जब बैंक को NHB Scheme के अतर्गत मिलेगी वही मान्य होगी।)

जिस भी प्रॉपर्टी पर प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत ऋण लिया गया है वहाँ पर बुनियादी सुविधायें जैसे कि पानी, स्वच्छता, सीवर, सड़क, बिजली इत्यादि होना ही चाहिये।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *