जानें Risk क्या है – हिन्दी में

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

    Risk याने जोखिम क्या होता है? हम सभी जानते हैं पर अगर इसे निवेश की भाषा में जानना है तो इसके कई अलग मायने होते हैं। हम सभी अपने जीवन में कई Risk लेते हैं, कई बोलते हैं कि हम खतरों के खिलाड़ी हैं। पर जहाँ बात अपने investment की आती है, अच्छे अच्छे फन्ने खाँ अपनी गुफाओं में पाये जाते हैं। व्यावसायिक रूप से भले ही कोई कितना भी अच्छा हो परंतु खुद के investment के लिये Risk उठाना बहुत ही कठिन कार्य है और इसके लिये जिगर ही नहीं दिमाग भी चाहिये होता है।

Risk Management

(c) वित्तगुरू          Risk Management

    Risk एक ऐसी संभावना है –

    जो कि आपके Investment से होने वाली संभावित आय से related है, याने कि आप अपने Investment से जितने return की संभावना कर रहे हैं, return उससे कम हो। यह भी कह सकते हैं कि possibility है आप अपने Investment का कुछ भाग या पूरा investment ही गँवा सकते हैं। Risk केवल Investment में ही नहीं है, Risk जीवन के हर क्षैत्र में है जैसे कि हमारा स्वास्थ्य, सामाजिक रुतबा, भावनात्मकता या वित्तीय स्थिती (Financial Stability), तो ये सब हमेशा स्थिर नहीं होते हैं, हम कुछ Risk  लेकर अपने हर चीज को और बड़ाने की कोशिश करते हैं जिससे चीजें कम भी हो सकती हैं और ज्यादा भी हो सकते हैं। ये चीजें हमारे लिये negative न हों इसके लिये हम कई प्रबंधन करते हैं, उसे हम जोखिम प्रबंधन (Risk Management) कहते हैं।

    Risk किसी ऐसी अनिश्चित स्थिती के लिये की जाने वाली क्रिया को भी कह सकते हैं, जो जानबूझकर की गई हो। जोखिम के परिणाम हमेशा संभावित होते हैं, ये अप्रत्याशित, अपरिमित (unmeasurable) होते हैं, जोखिम से हमेशा ऐसी परिस्थितियों का निर्माण होता है जो कि हमारे लिये बेकाबू होती हैं। Risk ऐसी संवेदनशीलता भी है Risk व्यक्तिगत निर्णय होता है कोई कम Risk लेता है तो कोई ज्यादा, और यह व्यक्ति अपने खुद के अनुभव से सीखता है। Risk सीखने से ही सीखा जा सकता है, यह अद्भुत है। हम कोई भी कार्य लीक से हटकर करते हैं तो उसमें सबसे ज्यादा Risk होता है।

    आज के युग में कई कंपनियाँ हैं जो केवल जोखिम प्रबंधन याने कि Risk Management का कार्य करती हैं। अपने बजट का एक बड़ा हिस्सा Risk Management विभाग को दिया जाता है जिससे कि वे अपने व्यापार में आने वाली संभावित समस्याओं से अच्छे से निपट सकें।

अब अगर हम Risk Management के केवल finance की नजर से देखें तो Investopedia कहता है

“A fundamental idea in finance is the relationship between risk and return. The greater the amount of risk that an investor is willing to take on, the greater the potential return. The reason for this is that investors need to be compensated for taking on additional risk.”

    उदाहरण के लिये अगर आप fixed deposit में investment करते हैं तो आपके investment के लिये risk बहुत ही कम है और आपको मिलने वाला return निश्चित है, पर अगर आप fixed deposit की जगह share market equities में invest करते तो यह आपके investment के लिये ज्यादा risk होगा, क्योंकि share market से मिलने वाला return अनिश्चित होता है, investment का return बहुत ज्यादा हो या बहुत ही कम हो या यह भी हो सकता है कि हम हमारे किये गये investment का मूल्य कम हो जाये। जितना ज्यादा Risk उतना ज्यादा Return, जितना कम Risk उतना कम Return.

बैंकों से संबंधित कुछ Risk इस प्रकार होते हैं –

Credit Risk – बैंको के लिये financial impact ठीक न हो याने कि अगर बैंक ने किसी व्यक्ति या संस्था को Advance / Loan दिया और वे उस Advance / Loan को वापिस करने में बैंक को असमर्थता जताते हैं तो इस प्रकार की परिस्थितियों से बैंक को financially नुकसान होगा और अगर Advance / Loan Amount बड़ा है तो बैंक के लिये यह बहुत ही बड़ा जोखिम होगा।

Liquidity Risk – बैंक अगर जरूरत से ज्यादा Advance / Loan दे दे तो अपने जमाकर्ताओं को Deposit Amount नहीं दे पायेगी, क्योंकि जमाकर्ता तो बैंक से कभी भी अपने Deposit Amount की माँग कर सकता है और बैंक के पास पैसा नहीं है क्योंकि बैंक ने उनके पैसे से Advance / Loan दे दिया या फिर कहीं निवेश कर दिया है।

Market Risk – Market की स्थिती खराब होने पर बैंक पर अगर adverse financial impact हो तो Market Risk कहलाता है। जिसमें Interest Rate और Foreign Exchange Risk भी शामिल होते हैं।

  1. Interest Rate Risk – अगर बाजार में Interest Rate पर ज्यादा अंतर आ जाये, जैसे कि अगर आप Deposit ले रहे हो 5 प्रतिशत की दर से, परंतु बाजार में अचानक ही ज्यादा Deposit आ गया और Interest Rate कम हो गया मान लीजिये कि 4.5 प्रतिशत तो यह बैंक के लिये Interest Rate Risk है।
  2. Foreign Exchange Risk – अगर किसी बैंक के पास Dollar में ज्यादा exposure है और एकदम से Dollar की value कम हो जाती है, तो यह स्थिती बैंक के लिये Foreign Exchange Risk कहलायेगी।

Exposure Risk – Exposure मतलब कि किसी एक पार्टी को बैंक ज्यादा Advance / Loan दे दे। बैंक के लिये उस पार्टी का Exposure ज्यादा हो गया है। और अगर उस पार्टी को नुकसान हो जाये तो बैंक के लिये बहुत ही ज्यादा Risk है, वैसे ही अगर आप का Deposit किसी एक ही बैंक में है तो आपका पूरा Exposure उस बैंक में ही है। अगर बैंक किसी परेशानी में आ जाये तो यह आपके लिये Exposure Risk है। ध्यान रखें इसीलिये fixed deposit कई बैंकों में रखें।

Investment Risk – बैंक ने अपने Investment अगर किसी ऐसी कंपनी में कर दिये जो कि Investment नहीं लेती है और किसी और व्यापार में है, और अगर किसी तरह भी उस कंपनी को व्यापार में घाटा हो गया तो बैंक के लिये Investment Risk है।

Country Risk – अगर किसी बैंक का Exposure किसी एक Country में ज्यादा है याने कि बैंक के बहुत सारे Transactions किसी एक country में ज्यादा होते हों और उस देश की आर्थिक स्थिती बिगड़ जाये या फिर वहाँ का राजनैतिक परिदृश्य बिगड़ जाये, इसे Political Risk भी कहते हैं। उस देश के संभावित खराब परिणामों से सीधे उस बैंक पर असर पड़ेगा जिसका Exposure उस country में ज्यादा होगा।

Operational Risk – ऐसी कोई भी परिस्थिती जिससे कि बैंक financial results and capital पर negative impact हो, जैसे कि बैंक के employee काम करने को तैयार न हों, अधूरे एवं अपूर्ण Internal Procedures और process हों, प्रबंधन के पास काम की जानकारी न हो, और कोई unforeseeable बाहरी कारण जिसके बारे में कोई जानकारी न हो।

Legal Risk – बैंकों को बहुत सारे नियमों का पालन करना होता है और अगर कहीं भी defaulter हुए तो उसकी penalty बैंक को चुकानी पड़ती है, कई बार penalty इतनी बड़ी होती है कि बैंक को बहुत सारा नुकसान हो जाता है।

Reputation Risk – Market में अपनी खराब साख के कारण यह Risk होता है, जैसे कि अगर बैंक हर बात में टाल देता है Deposit Account Holder को पैसा वापस देने में आना कानी करता है। बैंक की Financial Market में position खराब होने के कारण बैंक पर कोई विश्वास नहीं करना चाहता।

Strategic Risk – अगर बैंक का प्रबंधन लंबी अवधि को ध्यान में रखते हुए development goal नहीं बनाते हैं, नये नियमों के हिसाब से कार्यप्रणाली नहीं बदलते हैं तो उनके पूराने कार्य करने के style से बैंक को नुकसान हो सकता है।

3 thoughts on “जानें Risk क्या है – हिन्दी में

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *