उम्र के साथ निवेश के तरीके भी बदलिये Change Investment Types with your Age

आपकी उम्र के साथ ही आपके निवेश करने के तरीके भी बदलने चाहिये। Change Investment Types with your Age बदलाव ही जीवन है, क्योंकि आपकी उम्र, आपका निवेश, आपकी कमाई सब कुछ बदलता है। 20 वर्ष में – निवेश – इक्विटी म्यूचुअल फंड्स एवं टैक्स सेविंग इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम(ELSS), सस्ते जीवन बीमा (Life Insurance) […]
Continue reading…

 

How Much Insurance required? आपकी जिंदगी की कीमत क्या है? कितना बीमा लें?

टर्म इन्श्योरेन्स खरीदने के पहले क्या कभी आपने अपनी खुद की कीमत जानने की कोशिश करी है, (What is the cost of life? How Much Insurance required?) वैसे तो जिंदगी की कीमत कोई नहीं लगा सकता है क्योंकि यह अनमोल है। परंतु किसी भी आकस्मिक अनचाही दशा से निपटने के लिये हमें हर समय तैयार […]
Continue reading…

 

ग्यारंटीड लाभ वाले म्यूचयल फंड या यूलिप ज्यादा रिटर्न क्यों नहीं देते ?

ग्यारंटीड लाभ वाले म्यूचयल फंड या यूलिप ज्यादा रिटर्न क्यों नहीं देते ? बहुत से म्यूचुयल फंड, यूलिप या किसी और स्कीम में हम लोग सुनते हैं कि आपका पैसा शेयर बाजार में लगायेंगे और आपको अच्छे रिटर्न की ग्यारंटी भी देते हैं। निवेशक भी लालच में आकर इस प्रकार के फंड, यूलिप या स्कीम […]
Continue reading…

 

बीच में ही अपनी जीवन बीमा पॉलिसी को बंद करना चाहते हैं ?

बीच में ही अपनी जीवन बीमा पॉलिसी को बंद करना चाहते हैं, तो आपके लिये जानना जरूरी है कि आपको आयकर भरना होगा। वैसे जीवन बीमा पॉलिसी के सरेंडर के समय भुगतान की रकम पर कर के लिये अलग से कुछ बताया नहीं गया है। एक आयकर में बचत के लिये इस बात का जान […]
Continue reading…

 

जीवन बीमा पॉलिसी पर ऋण Loan Against Life Insurance Policy

मुझे आकस्मिक रूपयों की जरूरत है, तो क्या अपने जीवन बीमा पॉलिसी में भरने वाली रकम पर ऋण ले सकता हूँ। सबसे पहली बात कि आपका आकस्मिक फंड याने की आकस्मिक रकम हमेशा आपके पास तैयार होनी चाहिये, जो कि आपके बचत खाते से जुड़े मियादी जमा के रूप में होनी चाहिये। या फिर किसी […]
Continue reading…

 

भारतीय बीमा बाजार में साधारण बीमा

1999 के भारतीय बीमा विनायामक एवं विकास कानून जो कि 10 अप्रैल 2000 से लागू हुआ, इससे भारतीय बीमा बाजार में बीमा के क्षैत्र में आमूलचूल बदलाव हुए। हालांकि भारतीय बाजार कई व्यावसायिक क्षैत्रों में निजी एवं विदेशी कंपनियों के लिये बहुत पहले 1991 में ही खोल दिये गये थे। बीमा क्षैत्र उस समय इस […]
Continue reading…

 

आयकर में छूट पाने के लिये सही जगह निवेश करें

आयकर में छूट पाने के लिये हम जीवन भर निवेश के बारे में योजना बना सकते हैं, पर अगर एक बार आप तैयार हो जायें तो योजना की मनोस्थिती से बाहर आकर निवेश करना शुरू करें। हमेशा योजना की मनोस्थिती में रहना भी ठीक नहीं, कभी न कभी तो योजना पर अमल करना भी जरूरी […]
Continue reading…

 

KYC Compliance म्यूचयल फंड या बाजार में निवेश के लिये जरूरी है।

  अगर आप म्यूचयल फंड या बाजार में याने कि सीधे स्टॉक, बॉन्ड या कमोडिटी में निवेश करना चाहते हैं तो निवेशक को सेबी (SEBI) की जरूरत याने कि Know Your Customer KYC Compliance को पूरा करना होता है। हर व्यक्ति निवेश करना चाहता है परंतु केवल Know Your Customer (KYC) को जटिल प्रक्रिया मानकर […]
Continue reading…

 

जीवन बीमा निगम (LIC) के बीमे के बारे में

केवल जीवन बीमा निगम (LIC) हम लोग बचपन से ही बीमा के नाम पर केवल जीवन बीमा निगम (LIC) को ही जानते हैं, बीमे के प्रीमियम की रकम इतनी ज्यादा होती है और बीमित रकम बहुत कम होती है। क्योंकि यह पारम्परिक योजनाएँ होती हैं और ऐसे भी आप किसी भी जीवन बीमा निगम (LIC) […]
Continue reading…