अगर SIP की कुछ किश्तें न भर पायें तो क्या करें? What if you miss SIP installments?

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

SIP में निवेश करना याने कि लंबी अवधि के लिये अपने निवेश के लिये प्रतिबद्धता है। आप अपने म्यूचुअल फंड हाऊस को हर महीने या त्रैमासिक, किसी एक दिन पर बैंक से सीधे पैसे लेने की मंजूरी दे देते हैं, जिसे कि ऑटो डेबिट सुविधा भी कहा जाता है। पहले यह एक फॉर्म पर देना होता था, पर आजकल ऑनलाईन SIP लेने पर बैंक के नेटबैंकिंग में लॉगिन करके आपसे यह सारा काम ऑनलाईन ही करवा लिया जाता है। पर क्या कभी आपने यह सोचा है कि अगर किसी एक महीने या उससे ज्यादा आपके SIP में बैंक से पैसा नहीं गया तो क्या होगा? मतलब कि आपके बैंक खाते में पैसा नहीं है और SIP में पैसा ट्रांसफर नहीं हुआ फिर क्या होगा? अगर SIP की कुछ किश्तें न भर पायें तो क्या करें? What if you miss SIP installments?

ध्यान रखें कि अगर आपकी लगातार 3 SIP बैंक खाते से नहीं जाती है, तो म्यूचुअल फंड हाऊस आपकी SIP खुद से ही बंद कर देता है। म्यूचुअल फंड हाऊस SIP नहीं आने पर किसी भी तरह के शुल्क आपसे नहीं लेता है, परंतु 3 बार लगातार अगर SIP में पैसा आपके बैंक खाते में पैसा न होने की वजह से नहीं गया तो SIP बंद हो जाती है। यह दरअसल होती है ECS Mandate के कारण, क्योंकि म्यूचुअल फंड हाऊस को ECS Mandate कम से कम 3 महीने का देना होता है।

आपका बैंक आपसे जरूर शुल्क वसूल करेगा क्योंकि ECS क्लियरिंग होती है और किसी भी ट्रांजेक्शन के अनादर होने पर बैंक आपसे शुल्क वसूलता है, सभी बैंकों के अलग अलग शुल्क होते हैं, जैसे कि ICICI Bank Rs. 350 + GST और भारतीय स्टेट बैंक Rs. 150+GST वसूलते हैं।

पैसा खाते में नहीं है तो क्या करें?

अगर आपको पता है कि आपको अगले 3-4 महीने पैसे की परेशानी है और SIP नहीं भर पायेंगे, तो आप SIP को बंद कर दीजिये, जिससे कम से कम आपको बैंक के ECS Return के शुल्क तो नहीं देना होंगे। अगर ऑनलाईन आप SIP बंद करने का आवेदन करते हैं तो इसके लिये म्यूचुअल फंड कंपनी 10 दिन लेती है और अगर आवेदन पुराने तरीके से याने कि आवेदन फॉर्म में किया जाये तो इसमें 30 दिन का समय लगता है। आपको अपनी SIP फिर से शुरू करवाने के लिये वापिस से आवेदन देना होगा, जब आपकी पैसे की परेशानी खत्म हो जाये।

वैकल्पिक रूप से, आप अपनी SIP को थोड़े समय के लिये भी बंद करवा सकते हैं, इसके लिये आपको म्यूचुअल फंड हाऊस को आवेदन देना होगा। इससे आप कुछ अवधि के लिये अपनी SIP बंद करवा सकते हैं याने कि 3-4 महीने, और उसके बाद SIP अपने आप ही शुरू हो जायेगी। परंतु यह ध्यान रखें कि SIP Pause याने कि रोकने की सुविधा हर म्यूचुअल फंड हाऊस नहीं देता है।

बहुत सारी SIP की किश्तें अगर नहीं भरी गई होती हैं, भले ही वह किसी भी कारणवश हो, तो SIP के जरिये निवेश करने का मुख्य मकसद “अनुशासित निवेश”, खत्म हो जाता है। SIP के जरिये निवेश करने का मुख्य मकसद होता है कि हम जोखिम को कम करें, जिससे बाजार के हर उतार चढ़ाव का फायदा आपको अपने निवेश में मिले, क्योंकि कोई भी विशेषज्ञ यह कभी भी किसी भी उतार चढ़ाव के बारे में नहीं बता सकता है। परंतु SIP में निवेश करने से बाजार जब नीचे होता है तो आपको ज्यादा यूनिट अपने आप मिल जाती हैं, जिसका फायदा लंबी अवधि के निवेश के बाद आपको मिलता है। इसका मतलब यह भी है कि जब बाजार नीचे है और आप अपनी SIP की कोई भी किश्त चूक गये तो आपका निवेश बाजार के निचले पायदान पर नहीं हो पाया, जबकि आपको ज्यादा यूनिट्स मिलतीं। और अगर आप नियमित रूप से बीच बीच में SIP में पैसा नहीं भर पाते हैं तो इसका असर आपको वित्तीय लक्ष्य प्राप्ति पर सीधे सीधे पड़ता है। क्योंकि वित्तीय लक्ष्य पाने के लिये आपको नियमित निवेश बहुत जरूरी है।

आपके पास जब पैसा हो तब आप अपने उसी म्यूचुअल फंड में उसी फोलियो में और यूनिट खरीद लें, जिससे कि आपने जो भी SIP की किश्तें अभी तक नहीं भर पाये थे, उसकी भरपाई कर पायें। इससे आप अपने वित्तीय लक्ष्य को आसानी से प्राप्त कर पायेंगे और कोशिश करें कि जिस महीने SIP के लिये पैसे नहीं निकल पाये हैं, उसी महीने में ही आप उतने रूपये के म्यूचुअल फंड खरीद लें, जिससे उस महीने का बाजार के उतार चढ़ाव का फायदा आप ले पायें। ध्यान रखें कि कभी भी कोई भी बाजार के पकड़ नहीं पाया है, कोई भी आज तक यह नहीं बता पाया है कि बाजार में निवेश का समय कौन सा सही है, हो सकता है कि आप सोच रहे हों कि बाजार बहुत अच्छा करेगा, परंतु बाजार गिर जाये और वहीं इसके विपरीत अगर आप सोच रहे हैं कि बाजार अब गिरेगा परंतु उसके विपरीत बाजार और ऊपर निकल जाये।

नियमित निवेश ही वित्तीय लक्ष्य को पाने का एकमात्र उपाय है, इसमें कोई दो राय नहीं हैं, आप इस बारे में कुछ न सोचें और अपना निवेश बिना किसी रूकावट के हर महीने करते रहें। आपको अपने नियमित निवेश की आदत का फल जब मिलेगा, तब आपको अपने खुद के ऊपर गर्व होगा कि आपने नियमित निवेश का निर्णय लेकर अपने और अपने परिवार की आर्थिक खुशहाली का रास्ता प्रशस्त किया।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *