HIV+ के लिये बीमा कंपनियाँ मना नहीं कर सकतीं।​ Insurance Companies can’t deny cover for HIV+ patients.​

भारतीय बीमा विनियामक और विकास प्राधिकरण (IRDAI) ने HIV+ बीमारी के लिये बीमा कंपनियों को कहा है कि वे इसका इलाज अपनी बीमा पॉलिसी से हटा नहीं सकते हैं, जब तक कि उनके एक्चुयरी की ओर से न कहा जाये। नियामक ने कहा है कि HIV+ और AIDS के लिये बीमा कंपनियाँ कवरेज में पक्षपात […]
Continue reading…